ডেঙ্গু: হেমোরজিক জ্বর এবং শক সিনড্রোম অত্যন্ত বিপজ্জনক প্রমাণ করতে পারে


ডেঙ্গু: হেমোরজিক জ্বর এবং শক সিনড্রোম অত্যন্ত বিপজ্জনক প্রমাণ করতে পারে

डेंगू बुख़ार के कुछ लक्षणों में बुखार सिरदर्द त्वचा पर लाल चकत्ते और मांसपेशियों और जोड़ों में दर्द शामिल हैं। कुछ लोगों में डेंगू बुख़ार जानलेवा रूप ले लेता है।

नई दिल्ली, जेएनएन। डेंगू बुख़ार एक इन्फेक्शन है जो डेंगू वायरस की वजह से होता है। यह वायरस मच्छर के जरिए फैलता है। डेंगू का इलाज समय पर करना बहुत जरूरी होता है। इसे हड्डीतोड़ बुखार भी कहा जाता है क्योंकि इससे पीड़ित लोगों को इतना ज्यादा दर्द होता है कि जैसे उनकी हड्डियां टूट गयी हों। 

ডেঙ্গু জ্বরের কিছু লক্ষণগুলির মধ্যে রয়েছে জ্বর, মাথাব্যথা, ত্বকের ফুসকুড়ি এবং পেশী এবং জয়েন্টে ব্যথা। কিছু লোকের মধ্যে ডেঙ্গু জ্বর এক বা দুদিনের মধ্যে একটি রূপ নেয় যা জীবন হুমকিতে পরিণত হয়। ডেঙ্গু হেমোরজিক জ্বর যা রক্তনালীগুলিতে রক্তপাত বা ফুটো এবং রক্ত ​​প্লেটলেটগুলির স্তরকে হ্রাস করে (যা রক্ত ​​জমাট বাঁধার কারণ হয়) causes এছাড়াও ডেঙ্গু শক সিনড্রোম রয়েছে যা বিপজ্জনক রক্তচাপের দিকে পরিচালিত করে।

आइए जानें इस बीमारी के इलाज के बारे में- 

साधारण डेंगू का घर में ही हो सकता है इलाज 

চিকিৎসা বিজ্ঞানের মতে, ডেঙ্গু তিনটি ভাগে বিভক্ত। ধ্রুপদী (সাধারণ) ডেঙ্গু জ্বর, ডেঙ্গু হেমোরজিক ফিভার (ডিএইচএফ) এবং ডেঙ্গু শক সিনড্রোম (ডিএসএস)। সাধারণ ডেঙ্গু নিজে থেকে নিরাময় হয়, তবে ডিএইচএফের চিকিত্সা শুরু না করা হলে এটি রোগীর জীবনে তৈরি করা যেতে পারে।

साधारण डेंगू फीवर 

ठंड लगने के बाद तेज़ बुखार चढ़ना, सिर, मसल्स, जोड़ों और आंखों के पिछले हिस्से में दर्द। बहुत ज्यादा कमजोरी महसूस होना, भूख न लगना, जी मिचलाना और मुंह का स्वाद खराब होना, गले में हल्का दर्द, चेहरे, गर्दन व छाती पर लाल रैशेज होना। 

हेल्दी माइंड के लिए न करें इन 3 बातों को इग्नोर

हेल्दी माइंड के लिए न करें इन 3 बातों को इग्नोर

यह भी पढ़ें

शॉक सिंड्रोम 

इसमें मरीज बहुत बेचैन हो जाता है और तेज बुखार के बावजूद स्किन ठंडी महसूस होती है। मरीज धीरे-धीरे होश खोने लगता है। मरीज की नाड़ी कभी तेज और कभी धीरे चलने लगती है। ब्लड प्रेशर एकदम लो हो जाता है। 

हेमरेजिक फीवर 

डेंगू हेमरेजिक फीवर थोड़ा खतरनाक साबित हो सकता है। इसमें प्लेटलेट और वाइट ब्लड सेल्स की संख्या कम होने लगती है। इसमें नाक और मसूढ़ों से खून आना, शौच या उलटी में खून आना, स्किन पर गहरे नीले-काले रंग के छोटे या बड़े चकत्ते पड़ जाते हैं। 

ওজন হ্রাসের জন্য আজওয়াইন: আপনি যদি ওজন হ্রাস করতে চান তবে এভাবে সেলারি ব্যবহার করুন

ওজন হ্রাসের জন্য আজওয়াইন: আপনি যদি ওজন হ্রাস করতে চান তবে এভাবে সেলারি ব্যবহার করুন

পড়াও

जरूरी बात

डेंगू से कई बार मरीज मल्टीपल ऑर्गन फेलियर में चला जाता है। सेल्स के अंदर मौजूद फ्लूड बाहर निकल जाते हैं। पेट के अंदर पानी जमा हो जाता है। लंग्स और लीवर पर बुरा असर पड़ता है और ये काम करना बंद कर देते हैं। मच्छर के काटे जाने के 3-5 दिनों के बाद मरीज में डेंगू बुखार के लक्षण दिखने लगते हैं। कुछ मामलों में शरीर में बीमारी पनपने की मियाद 3 से 10 दिनों की भी हो सकती है। 

বিশ্ব প্রতিবন্ধী দিবস 2019: যত্নের এই পদ্ধতিগুলি অবলম্বন করে বাচ্চাদের পথ সহজ করে দিন

বিশ্ব প্রতিবন্ধী দিবস 2019: যত্নের এই পদ্ধতিগুলি অবলম্বন করে বাচ্চাদের পথ সহজ করে দিন

পড়াও

तुरंत डॉक्टर को दिखाएं 

मरीज में डीएसएस या डीएचएफ का एक भी लक्षण दिखाई दे तो उसे तत्काल डॉक्टर के पास ले जाएं। इसमें प्लेटलेट्स कम हो जाती हैं, जिससे शरीर के अंग प्रभावित हो सकते हैं। डेंगू बुखार के हर मरीज को प्लेटलेट्स चढ़ाने की जरूरत नहीं होती, सिर्फ डेंगू हैमरेजिक और डेंगू शॉक सिंड्रोम बुखार में ही जरूरत पड़ने पर प्लेटलेट्स चढ़ाई जाती हैं। 

মন্তব্য করুন

আপনার ই-মেইল এ্যাড্রেস প্রকাশিত হবে না। * চিহ্নিত বিষয়গুলো আবশ্যক।