सेहत के लिए कितना फायदेमंद और नुकसानदायक है व्रत रखना, जानें यहां


सेहत के लिए कितना फायदेमंद और नुकसानदायक है व्रत रखना, जानें यहां

व्रत और उपवास रखने के जहां कुछ फायदे हैं वहीं कुछ नुकसान भी। बहुत देर तक भूखे रहना और लगातार खाते रहना दोनों ही सही नहीं। तो आइए जानते हैं इसका सही तरीका।

हमारा शरीर एक मशीन की तरह है और उसे आराम देने के लिए बीच-बीच में व्रत रखना ज़रूरी होता है। इससे डाइजेस्टिव सिस्टम को आराम करने का मौका मिलता है। व्रत करने का मतलब सिर्फ पेट को आराम देना ही नहीं होता, बल्कि मन के लिए भी यह बहुत ही फायदेमंद होता है। इससे क्रोध और लोभ जैसी नकारात्मक भावनाओं को कंट्रोल करने में मदद मिलती है। व्रत रखने से तन और मन दोनों की शुद्धि होती है। इसलिए कोशिश करें हफ्ते में एक दिन व्रत जरूर रखें।

व्रत करने के फायदे और नुकसान

कुछ लोग व्रत को डाइटिंग का ऑप्शन समझते हुए महज इसलिए व्रत रखते हैं कि इससे वजन कम हो जाएगा। व्रत के दौरान खानपान का जो तरीका अपनाया जाता है, वह सेहत के लिहाज से कहीं से भी फायदेमंद नहीं होता क्योंकि व्रत में हम ज्य़ादातर हाई कैलरी वाली चीज़ों का सेवन करते हैं। इसलिए अगर लगातार लंबे समय तक व्रत रखा जाए तो यह सेहत के लिए बहुत नुकसानदेह साबित होता है। कुछ लोग व्रत के दौरान पानी तक नहीं पीते, जिससे डिहाइड्रेशन हो जाता है और फिर इससे सिरदर्द, चक्कर जैसी और दूसरी समस्याएं।

विशेषज्ञ की राय

व्रत रखना सेहत के लिए हमेशा से ही नुकसानदेह साबित होता है। व्रत के दौरान लोग कई घंटों तक खाली पेट रहते हैं। उसके बाद उन्हें बहुत तेज़ भूख लगती है। इसलिए न चाहते हुए भी उनसे ओवर ईटिंग हो ही जाती है। ऐसे में अंत:स्रावी ग्रंथियों से इंसुलिन का अधिक मात्रा में सिक्रीशन होता है। इससे शरीर में बहुत ज्य़ादा कैलरी अब्ज़ॉर्ब होने लगती है। इसी वजह से ज्य़ादा व्रत रखने वाले लोग अकसर ओवरवेट होते हैं और वे यह सोचकर चिंतित रहते हैं कि व्रत रखने के बावजूद मेरा वजन कम क्यों नहीं हो रहा। उनका ऐसा सोचना बिलकुल गलत है। व्रत रखने से वजन घटने के बजाय बढ़ता है।

हेल्दी माइंड के लिए न करें इन 3 बातों को इग्नोर

हेल्दी माइंड के लिए न करें इन 3 बातों को इग्नोर

यह भी पढ़ें

उपवास के दौरान शरीर का मेटाबॉलिक रेट कम हो जाता है। इससे कैलरी बर्न होने के बजाय शरीर में जमा होने लगती है, जो मोटापे का कारण बन जाती है। व्रत की वजह से एसिडिटी और गैस की भी समस्या होती है। व्रत के दौरान लगातार बहुत देर तक खाली पेट नहीं रहना चाहिए और गरिष्ठ के बजाय हल्की चीज़ों का सेवन करना चाहिए।

चारू दुआ (चीफ न्यूट्रिशनिस्ट पुष्पांजलि क्रासले हॉस्पिटल दिल्ली)

মন্তব্য করুন

আপনার ই-মেইল এ্যাড্রেস প্রকাশিত হবে না। * চিহ্নিত বিষয়গুলো আবশ্যক।